Email:

info@deepadiary.com

Menu

Maya Bazar (1957) Movie | Vivaha Bhojanambu in Hindi lyric with meaning

0 Comments

 Movie - Maya Bazar (1957)
song - Vivaha Bhojanamu 
Star -    NTR,ANR,SVR,Savitri
Image result for maya bazaar movie
ihMdI maoM gaanaa va ]saka Anauvaad
gaanaa ka pircaya–
 अर्जुन का पुत्र अभिमन्यु और बलराम की बेटी शशिरेखा एक दूसरे से प्यार
 करते है। मायाजूद मे पांडव अपना सबकुछ हारजाते है।
 इसीलिए शशिरेखा की मा उसकी शादी किसी अमीर घराने मे करना 
चाहती है। जब दुर्योधन अपने बेटा का रिश्ता लेकर आया तो मा 
बाप हा कर देते है। जब दुखी शशिरेखा अपनी चाचा श्रीकृष्ण से
 मदद मांगती तो वे शशिरेखा को अभिमन्यु के पास पहुंचाके उसकी जगह
 भीम का बेटा घटोत्कज(राक्षस और मायावि) को शशिरेखा की रूप मे 
महल मे रखते है ताकि वह ऐसे चालें चले की लडकेवाले खुद ही भाग जाये।
"आहा ना पेल्लियंटा" गाना घटोतकज पे (शशिरेखा रूप मे) फिल्माया गया।
"विवाह भोजनंबु" गाना घटोत्कच के ऊपर फिल्माया गया जब वह सारा 
खाना जो शादी मे लडकेवालों(कौरव) के लिये बनाया गया, खा जाते है।

 अहह्हा हा विवाहाभोजनंबु अहह्हा हा।
 विवाहभोजनंबु विंतैनवंटकंबु विय्यालावारिविंदु ओहोह्हो नाके मुंदु।।
विवाह।। 
अहह्ह हह्ह हह्ह अहह्ह हह्ह हह्ह अहह्ह हह्ह हा और उरा
 गारेलल्ला अय्यारे बूरेलिल्ला ओह्होरे अरिसेलुल्ला अहह्हा हा
 इय्येल्ला नाके चेल्ला ।।विवाह।। भलीरे लड्डुलंदु वाह 
फेणिपोणिलिंदु भले जिलेबि मुंदु अहह्हा हा इय्येल्ला नाके विंदु ।।
 विवाह।। मझारे अप्पलालु पुलिहोरा दप्पलालु वह्वारे पायसालु 
अहह्हा हा इवय्येल्ला नाके चालु ।।विवाह ।।
 Meaning:- *विवाहभोजनंबु विंतैनवंटकंबु विय्यालावारिविंदु
 ओहोह्हो नाके मुंदु 
** शादी का भोजन ,
 तरह तरह के पकवान समधन लोगों के लिए दावत,
 सब से पहले मै(खाऊंगा)
 *औरउरा गारेलल्ला अय्यारे बूरेलिल्ला ओह्होरे अरिसेलुल्ला
 अहह्हा हा इय्येल्ला नाके चेल्ला 
** ओहो वहाँ वडे, हाहा यहाँ बूरेलु(मीठा पकवान),
 ओहोहो..वहाँ अतिरस(मीठा पकवान) ये सब मुझे चाहिये।
 *भलीरे लड्डुलंदु वाह फेणिपोणिलिंदु भले जिलेबि मुंदु
 अहह्हा हा इय्येल्ला नाके विंदु ।
 ** भला...उधर लड्डू, वाह्वा इधर फेणी,
 पोणि(मीठा पकवान) ...क्या बात है,
 जलेबी इधर आगे। ये सब अभी मैं भोजन करूंगा।
 *मझारे अप्पलालु पुलिहोरा दप्पलालु वह्वारे पायसालु 
अहह्हा हा इवय्येल्ला नाके चालु। 
** मजे की बात है अप्पालु भी है , 
पुलिहोर और दप्पलम भी है, 
ऊपर से पायसम भी। ये सब काफी है मेरे लिये।

Leave a Reply

Your email address will not be published.